MP

क्या अब कैलाश विजयवर्गीय पर भी कार्रवाई करेंगे गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा?

कैलाश विजयवर्गीय ने एक पुराने वीडियो को खरगोन हिंसा के संदर्भ में किया शेयर।

इंदौर/ भोपाल (जोशहोश डेस्क) भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव और प्रदेश के दिग्गज नेता कैलाश विजयवर्गीय एक वीडियो पोस्ट कर विपक्ष के साथ सोशल मीडिया के निशाने पर आ गए हैं। कैलाश विजयवर्गीय ने एक पुराने वीडियो को खरगोन हिंसा के संदर्भ में शेयर किया है। इसके बाद यह सवाल उठ रहा है कि क्या अब राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह की तर्ज पर कैलाश विजयवर्गीय के खिलाफ भी एक्शन लिया जाएगा।

कैलाश विजयवर्गीय ने गुरुवार को यह वीडियो पोस्ट किया। वीडियो तेलंगाना का है और करीब दो साल पुराना है। वीडियो को करौली हिंसा का बताकर भी सोशल मीडिया पर पोस्ट किया जा रहा है-

कैलाश विजयवर्गीय द्वारा खरगोन हिंसा को लेकर झूठे वीडियो को पोस्ट किए जाने पर अब कांग्रेस हमलावर हो गई है। कांग्रेस प्रवक्ता नरेंद्र सलूजा ने इस वीडियो के आधार पर कैलाश विजयवर्गीय पर मुकदमा दर्ज किए जाने की मांग की है-

इससे पहले राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह पर इसी तरह के मामले में केस दर्ज किया जा चुका है। हालांकि दिग्विजय सिंह ने गलती सामने आने पर वीडियो डिलीट कर दिया था। दिग्विजय सिंह के खरगोन के सन्दर्भ में गलत वीडियो पोस्ट किए जाने को शिवराज सरकार और भाजपा ने बड़ा मुद्दा बनाया था और उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई थी।

इस वीडियो को पोस्ट किए जाने के बाद अब कैलाश विजयवर्गीय के खिलाफ भी कार्रवाई की मांग की जा रही है। फैक्ट चेकिंग साइट ऑल्ट न्यूज के संस्थापक मोहम्मद जुबैर ने भी गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा से सवाल किया है कि क्या अब कैलाश विजयवर्गीय पर भी एक्शन लिया जाएगा।

गौरतलब है कि गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने दिग्विजय सिंह के वीडियो पोस्ट किए जाने को लेकर कहा था कि खरगोन या बडवानी से संबंधित अफवाह फैलाने वाला या कोई कूटरचित वीडियो डालता है तो उसके खिलाफ तत्काल वैधानिक कार्रवाई की जाएगी। वहीं प्रदेश भाजपा अध्यक्ष विष्णु दत्त शर्मा ने कहा था कि दिग्विजय सिंह की अब गिरफ़्तारी होगी, वो बचेंगे नहीं, उन्होंने बड़ा अपराध किया है। यहाँ तक कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी दिग्विजय की पोस्ट पर नाराजगी जताई थी। उन्होंने ट्वीट में लिखा था- दिग्विजय सिंह ने एक धार्मिक स्थल पर युवक द्वारा भगवा झंडा फहराने का फोटो सहित ट्वीट किया है। वह मध्य प्रदेश का नहीं है। दिग्विजय सिंह का यह ट्वीट प्रदेश में धार्मिक उन्माद फैलाने का षड्यंत्र है और प्रदेश को दंगे की आग में झोंकने की साजिश है, जिसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। अब सवाल यह है कि क्या शिवराज सरकार खरगोन के मामले को लेकरअब कैलाश विजयवर्गीय पर भी केस दर्ज़ करेगी।

Back to top button