National

बिहार में ‘कुशासन’: पुलिस वाला बोला-पत्नी से कहिए टॉवल में बाहर आए …

बिहार में शराबबंदी के नाम पर पुलिस तलाशी अभियान के दौरान कर रही आम आदमी की निजता का हनन।

पटना (जोशहोश डेस्क) बिहार में शराबबंदी को लेकर पुलिस आम आदमी की निजता का किस हद तक हनन कर रही है उसका एक उदाहरण सोशल मीडिया पर वायरल है। सोशल मीडिया पर वायरल इस फेसबुक पोस्ट में बताया गया है तलाशी अभियान के नाम पर मिले अधिकार का पुलिसकर्मी किस हद तक दुरुपयोग कर रहे हैं।

पत्रकार उत्कर्ष सिंह ने इस पोस्ट को शेयर किया है। उत्कर्ष सिंह ने लिखा आप किसी शादी में गए हों, होटल के कमरे में आपकी पत्नी नहाने गई हो, तभी पुलिस आ जाए, कमरे की तलाशी ले और फिर बाथरूम से आपकी पत्नी को टॉवेल लपेटकर बाहर आने को कहे, आप क्या करेंगे?

विश्वास करना मुश्किल हो रहा है कि शराबबंदी के नाम पर लोगों की निजता का इस कदर हनन हो रहा है. शर्मनाक!

उत्कर्ष सिंह ने जिस पोस्ट को शेयर किया है वह फेसबुक पर प्रशांत कुमार नाम से लिखी गई है। पढ़िए इस पोस्ट को-

पुलिस वाला बोला- पत्नी से कहिए टॉवल में बाहर आए … !

ये घटना मोतिहारी जिले की है। वाकया शुक्रवार रात हुआ। किस्सा बिहार के एक प्रतिष्ठित व्यक्ति के हवाले से है, जिनके सीएम नीतीश कुमार से भी अच्छे ताल्लुकात हैं। उन्होंने मोतिहारी के एक होटल में आयोजित शादी समारोह में शराब की जांच करने आई पुलिस की कहानी सुनाई, जिसे सुनने के बाद किसी भी शख्स के दिलोदिमाग में पुलिसवालों के लिए कभी सहानुभूति नहीं आएगी।

प्रतिष्ठित एवं सामाजिक व्यक्ति कहते हैं- हमलोग wis… होटल में ठहरे थे, वहां शराब की जांच करने पुलिस आई। एक पुलिसवाले के कंधे पर एक सितारा था, वो इंस्पेक्टर था या जमादार, ये मुझे नहीं मालूम। लेकिन, उसका चेहरा नहीं भूल पाऊंगा।।

उन्होंने बताया कि कंधे पर एक सितारा टांग रखे पुलिसवाले ने बगल के कमरा का दरवाजा खटखटाया। उस कमरे में उनका (दास्तां सुनाने वाले का) परिचित पत्नी के साथ ठहरा था। दरवाजा खुलते ही पुलिसवाला कमरे में दाखिल हो गया और सहेजे हुए सामान को तलाशी के नाम पर बिखेरने लगा। इतना तो उसका हक बनता है, जब मुख्यमंत्री ने कह दिया है कि जरूरी नहीं सूचना सही हो, पर जानकारी मिलते ही पुलिस किसी भी वक्त और किसी भी जगह छापा मार सकती है, इसको मुद्दा नहीं बनाया जायेगा।

खैर, कमरे की तलाशी लेने के बाद पुलिसवाले ने बाथरूम का दरवाजा खोलने को कहा। तब कमरे में रुके यात्री ने बताया कि बाथरूम में उनकी श्रीमती स्नान कर रही हैं। उन्होंने पुलिसवाले से आग्रह किया कि वे कुछ देर के लिए बाहर जाएं। उनकी पत्नी कपड़े बदल लेती हैं, तब बाथरूम की जांच कर लें। लेकिन, पुलिसवाला कुछ भी सुनने को तैयार नहीं था। वो अपने सामने बाथरूम का दरवाजा खुलवाने की जिद पर अड़ गया और बोला पत्नी से कहिए टॉवल में बाहर आएं।

पुलिसवाले की ये बात सुनकर होटल में ठहरे दूसरे गेस्ट का खून खौल गया। लोगों और पुलिसवालों में बहस होने लगी। अड़ियल रवैया देखकर लोगों का गुस्सा सातवें आसमान पर पहुंच गया। सब्र का बांध पहले ही टूट जाता मगर लोगों ने वर्दी की लाज रखी । इस बीच कमरे में ठहरे यात्री ने बाथरूम का दरवाजा थोड़ा खुलवा कर पत्नी को कपड़े दिए। वो तैयार होकर बाहर आई और पुलिसवाला बाथरूम में झांककर होटल कर्मियों पर रौब झाड़ते हुए नीचे रिसेप्शन के पास चला गया। लोगों ने उस वर्दीधारी से बहस के दौरान ये तक कहा कि आप जैसों की एक ऐसी ही हरकत पर माननीय उच्च न्यायालय ने संज्ञान लिया, फिर भी पुलिस पब्लिक फ्रेंडली नहीं हो रही। तब जोश जोश में – पुलिसवाला कोर्ट और योर ऑनर को भी गाली देने से नहीं चूका।

Back to top button